***** For other Fatawa, please click on the topics on the left *****



विषय की सूची

فتاویٰ > विविध

Share |
f:1181 -    एक कुएं को कैसे पवित्र व शुद्ध करें?
Country : ,
Name :
Question:     कुआँ कैसे पवित्र बनता हैं?
............................................................................
Answer:     (1)- जिस चीज़ के गिरने से कुआं नापाक हुआ है पहले इस को निकाल कर इस के बाद आदेश शरीअ़त के अनुसार कुऐं का पानी निकालना चाहिए जब तक वह चीज़ ना निकाली जाएगी कुआं पाक ना होगा।  

अगरचे पानी कितना ही कियों का निकाला जाए।  हाँ, यदि वह चीज़ ऐसी हो के निकाले ना निल सके उदाहरण नापाक (अशुद्ध व अपवित्र) लकडी या कडे का तुकडा तो इस समय पानी निकाल देने से कुआं पाक हो (और कुऐं के साथ वह चीज़ भी पाक व पवित्र हो जाएगी कियों के इस की नजासत (अशुद्धता) ज़ाती ना थी किन्तु जो चीज़ खूद ज़ात से नापाक हो जैसे मुरदा जानवर का गोश्त तो इस स्थिति में कुऐं को इतने काल तक छोड देना चाहिए के वह चीज़ गल सढ कर मिट्टी हो जाए जिस की संख्या शुरु में छः महीने हैं।  इस के बाद बाखद्र वाजिब पानी निकाल देने से कुआँ पाक (पवित्र व शुद्ध) हो जाएगा।) जाएगा।  

2)- जिन स्थिति में तमाम पानी नापाक व अपवित्र हो जाता हैं इन में कुऐं के पा करने का तरीक़ा यह है केः-

कूल पानी निकाल डाला जाए यहाँ तक के फिर आधी डोल ना फेर सके इस के बाद कुआ़ पाक हो जाएगा।  
(3)- जिस कुऐं का तमाम पानी (1) ना निकल सके इस से दो सौ से तीन सौ डोल तक निकाल दीए (2) जाएं (दो सौ डोल निकालना वाजिब और तीन सौ निकालना मूसतह हैं) ।  

(4)- जिन सुरतों में कूल पानी नापाक नहीं होता इन में ना तरतीब (3) बीस से तीस और चालीस से साठ डोल निकाल देने से कुआं पाक व पवित्र हो जाएगा।  

(5)- यदि किसी कुऐं में पानी खद्र वाजिब से कम हो (उदाहरण चालीस डोल निकालना वाजिब है किन्तु पानी बीस ही डोल हों) तो इसी खद्र निकाल देने से कुआं पाक व पवित्र (4) हो जाएगा।  

(6)- नपाक कुआं यदि बिल्कूल क़ूश्ख हो जाए तब भी पाक (5) हो जाएगा शर्त हैं के इस समय नजासत (अशुद्धता) का प्रभाव ना हों।

{और अल्लाह तआ़ला सर्वश्रेष्ठ ज्ञान रखने वाला है

मुफती सैय्यद ज़िया उद्दीन नक्षबंदी खादरी

महाध्यापक, धर्मशास्त्र, जामिया निज़ामिया,

प्रवर्तक-संचालक, अबुल हसनात इसलामिक रीसर्च सेन्टर}
All Right Reserved 2009 - ziaislamic.com